तेलुगु इंडस्ट्री में भारतीय परंपरा में रची बसी फिल्मों को दिखाने का एक पुराना ट्रेंड…!

Views: 533
0 0
Read Time:5 Minute, 18 Second

भारतीय संस्कृति, परंपरा को दिखाने वाली फिल्मों की भरमार है। वह चाहे कन्नड़ इंडस्ट्री हो, मलयाली, तमिल, मराठी या फिर अन्य भाषाभाषी उद्योग, अब हर जगह भारतीयता में रचे बसे कॉन्टेंट की आमद बढ़ गई है। अभी हाल ही में कांतारा हिट हुई थी। जैसे ही कोई फिल्म बड़ी हिट होती है, निर्माता उसी ऑडियंस बेस के पीछे भागते नजर आते हैं। तेलुगु इंडस्ट्री तो खैर अगुआ कही जा सकते हैं। वहां दो दशकों से भारतीय संस्कृति में रची बसी फ़िल्में बनाने और दिखाने का ट्रेंड है। वहां कई काल्पनिक कहानियों में बहुत खूबसूरती और मनोरंजक तरीके से इतिहास और संस्कृति के विषयों को परोसा जाता है। यहां तक कि उन साधारण कहानियों में भी जिनका धर्म और अध्यात्म से दूर-दूर तक का लेना देना नहीं होता, उसमें भी सांस्कृतिक प्रतीकों को खूबसूरती से दिखाया जाता है।

वाल्टेयर वीरैया तेलुगु इंडस्ट्री की ऐसी ही एक फिल्म है। चिरंजीवी स्टारर फिल्म की रिलीज डेट आज ही घोषित की गई है। फिल्म को मकर संक्रांति के मौके पर 13 जनवरी के दिन सिनेमाघरों में रिलीज किया जाएगा। यह एक्टर के करियर की 154वीं फिल्म है। यह फिल्म तेलुगु की एक्शन एंटरटेनर है। जो पोस्टर सामने आया है उसमें चिरंजीवी एक नाव पर हाथ में हथियार लिए नजर आते हैं। उनकी नाव पर भगवा ध्वज भी टंगा हुआ है। ध्वज पर हनुमान जी की तस्वीर अंकित है। इससे साफ़ है कि चिरंजीवी का किरदार एक हनुमानभक्त का है। वैसे भी फिल्म में चिरंजीवी एक रफटफ किरदार में होंगे और हनुमान को भारतीय परंपरा में ब्रह्मचर्य और शक्ति का देवता माना जाता है। चिरंजीवी का किरदार किस तरह से बुना गया है देखने वाली बात होगी।

वाल्टेयर वीरैया में चिरंजीवी के साथ रवि तेजा और श्रुति हासन भी अहम भूमिकाओं में हैं। फिल्म की कहानी का क्लू तो नहीं मिल पाया है, लेकिन यह संभवत: मछुआरों की कोई कहानी है। टीजर से साफ भी हुआ था कि समुद्र में एक विलेन से चिरंजीवी लोहा लेते दिखते हैं। फिल्म में चिरजीवी के किरदार को किस तरह से बुना गया है- यह देखना दिलचस्प रहेगा। फिल्म का निर्देशन बॉबी कूली ने किया है। और बताया जा रहा कि इसे असल में चिरंजीवी के मूड की पुरानी फिल्मों की तरह बनाया गया है। इसमें एक्शन, इमोशन कॉमेडी और रोमांस आदि का तगड़ा मसाला है।

चिरंजीवी की पिछली दोनों फ़िल्में आचार्य और गॉडफादर कोई बड़ा कमाल नहीं दिखा पाई हैं। आचार्य बहुत बुरी तरह से फ्लॉप हुई। जबकि करीब 100 करोड़ के बजट में बनी गॉडफादर ने किसी तरह अपनी लागत निकालने में कामयाबी पाई है। चिरंजीवी को अपनी अपकमिंग मूवी से बहुत उम्मीदें हैं। इस बार उन्होंने हनुमान का भी सहारा लिया है। वाल्टेयर वीरैया से पहले इस साल तेलुगु में आई RRR, कार्तिकेय 2, द वॉरियर, सेनापति, मेजर और बिम्बिसार जैसी फिल्मों के प्रति दर्शकों का रुझान देखें तो समझ में आता है कि आंध्रप्रदेश और तेलंगाना में भारतीयता, राष्ट्रवादी भावनाओं से ओतप्रोत फ़िल्में बनाई जा रही हैं। साफ़ है कि इन फिल्मों की वजह से निर्माताओं को उनका निवेश भी वापस मिल रहा है। फ़िल्में कारोबारी रूप से भी फायदे का सौदा साबित हो रही हैं।

अब देखने वाली बात यह होगी कि वाल्टेयर वीरैया, चिरंजीवी को किस तरह से फायदा पहुंचाने जा रही है।

बेहतरीन फिल्मे और वेबसेरिस को देखने के लिए भारत का पहला वर्चुअल सिनेमा दिव्या दृष्टि प्लेयर डाउनलोड करे। और बेहतरीन फिल्म और वेबसेरिस का घर बैठे अपने परिवार के साथ आनंद उठाए । दिए हुए लिंक पर क्लिक करे

https://play.google.com/store/apps/details?id=net.digital.divyadrishtiplayer

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Scroll to Top