“जनरल रावत”जी को समर्प्रित फिल्म गोदाम दिव्य दृष्टि app ( वर्चुअल थिएटर ) में रिलीज… टिकिट मात्र…
Read Time:4 Minute, 35 Second
Views:542

“जनरल रावत”जी को समर्प्रित फिल्म गोदाम दिव्य दृष्टि app ( वर्चुअल थिएटर ) में रिलीज… टिकिट मात्र…

0 0

भारत कोरोनवायरस महामारी की दूसरी लहर से जूझ रहा ही था। उन हालत में कई लोगो ने इस महामारी में अपनी जान गंवा दी थी। “सार्थक” सिनेमा के निर्माता सुजीत प्रताप सिंह, कोविड महामारी के दौरान अपनी जान गंवा देने वाले पत्रकारों, किसानों और सेना के लिए अपनी फिल्म गोदाम के प्रॉफिट का 25% दान करेंगे ऐसी घोषणा की थी और दान किया भी था।

३१ जनवरी को यह फिल्म दिव्या दृष्टि app पर प्रदर्शित हो रही है। इस फिल्म की टिकट मात्र ५० रुपये है। फिल्म देखने के लिए दिए हुए लिंक पर क्लिक करे।

जरूरतमंदों की मदद की ऐलान का जिक्र
“हम इस नेक पहल का हिस्सा बनकर खुश हैं, कोविड -19 पत्रकार योद्धा, किसानों और सेना परिवारों के लिए हमारा यह एक छोटा सा योगदान रहेगा। यह फिल्म किसानों और राष्ट्र के प्रथम सीडीएस जनरल बिपिन रावत को समर्पित की गई है । यह फिल्म उनके लिए एक श्रद्धांजलि है”, सार्थक सिनेमा के सीईओ सुजीत प्रताप सिंह ने मुंबई में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान इस बात की जानकारी दी थी। देश की सेवा के लिए अपना पूरा जीवन अर्पित कर देने वाले जनरल बिपिन रावत और उनके साथ 13 अन्य शूरवीरों का हेलिकॉप्टर हादसे में निधन हो गया था। जिसके बाद पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गई थी। ये फिल्म जनरल रावत को भी अपनी श्रद्धांजलि दे रही है।

साथ कंधा मिलाकर चलने की जरूरत – अखिल गौरव के सुवर्ण शब्द
फिल्म रिलीज के मौके पर गोदाम फिल्म के निर्देशक अखिल गौरव सिंह, अभिनेत्री एस बबली, अभिनेता बिपिन पाणिग्रही और अरुण शुक्ला मौजूद थे। निदेशक अखिल गौरव ने कहा, “देश एक अत्यंत चुनौतीपूर्ण स्थिति से गुजर रहा था और एक जिम्मेदार नागरिक के रूप में, हम सभी कठिन परिस्थितियों के खिलाफ लड़ाई को मजबूत करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाने के लिए प्रतिबद्ध थे। ऐसे हम सभी देशवासियों साथ कंधे से कन्धा मिलाकर चलने की जरुरत है।

ये है फिल्म गोदाम की कहानी
गोदाम की कहानी एक छोटे किसान के इर्द-गिर्द घूमती है, जो आर्थिक रूप से कमजोर होने के बावजूद खुश और संतुष्ट है. उसे पड़ोस की एक लड़की ‘हल्दी’ से प्यार हो जाता है। लेकिन उसकी आर्थिक स्थिति के कारण उसके पिता इससे खुश नहीं हैं। लड़की के पिता लड़के पर एक शर्त रखता है। अगर वह उसकी मांग पूरी करता है, तो वह उन्हें शादी करने की अनुमति देगा। इस बीच एक सरकारी अधिकारी गांव के विकास का निरीक्षण करने आता है। कहानी धीरे-धीरे गांव के विकास के पीछे की सच्चाई को उजागर करती है और लव बर्ड्स को उनकी लव लाइफ कैसे मिलती है। यह फिल्म ३१ जनवरी को दिव्या दृष्टि वर्चुअल एप्प पर रिलीज हो चुकी है। फिल्म को देखने के लिए ऍप डाउनलोड करे और अपने पुरे परिवार के साथ इस फिल्म का आनंद उठाये।

बेहतरीन फिल्मे और वेबसेरिस को देखने के लिए भारत का पहला वर्चुअल सिनेमा दिव्या दृष्टि प्लेयर डाउनलोड करे। और बेहतरीन फिल्म और वेबसेरिस का घर बैठे अपने परिवार के साथ आनंद उठाए । दिए हुए लिंक पर क्लिक करे

https://play.google.com/store/apps/details?id=net.digital.divyadrishtiplayer

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Previous post “शतरंज” का एक घर भी पार नहीं कर पाई फिल्म…?
प्रतिकार चौरी चौरा Next post 1922 प्रतिकार चौरी चौरा (अभीक भानु के द्वारा निर्देशित )

Download our app

Social Link

Recent Posts